Monday, May 3, 2010

17 महिनों बाद दोषी करार




26 नवंबर 2008 को मुंबई के साथ साथ पूरी दुनिया को आतंकी हमले से दहलाने वाले अजमल कसाब को अदालत ने दोषी करार दे दिया है.....मुंबई की स्पेशल कोर्ट में जब जज कसाब का फैसला पढ़ रहे थें तब कसाब सिर झुकाए जज के फैसले को सुन रहा था...हालांकि लश्कर-ए-तैएबा के इस आतंकी पर 166 लोगों को मारने का आरोप लगाया गया था लेकिन कसाब को इनमें से 72 लोगों की हत्या का दोषी करार दिया गया है.....इसके अलावा कसाब को भारत के खिलाफ युद्ध छेड़ने का भी दोषी करार दिया गया है.... 113 मिनट तक चली कोर्ट की कार्रवाई में कसाब को दोषी करार दिए जाने के बाद कसाब को कल सज़ा सुनाए जाने का फैसला किया गया है....17 महिनों तक चली इस केस की सुनवाई का फैसला 1522 पन्नों में लिखा गया है....26/11 मुंबई हमले के इस केस में कसाब को दोषी करार दिए जाने में बैलिस्टिक रिपोर्ट ने सबसे अहम भूमिका निभाई....

अदालत ने अपना फैसला सुनाते हुए मुंबई हमले को पूरी तरह एक विदेशी हमला करार दिया...इसके साथ हीं कसाब की मदद करने के आरोप में गिरफ्तार किए गए फहीम और सबाउद्दीन को बरी कर दिया गया है कसाब को दोषी करार दिए जाने के बाद सारे देशवासियों को अब कसाब के सज़ा का इंतजार है.....ना सिर्फ मुंबई हमले के पीड़ित बल्कि पूरा देश कसाब के सज़ा सुनाए जाने का इंतजार कर रहा है.....कसाब को चाहे जो भी सज़ा मिले लेकिन देश को असली इंसाफ तो तभी मिलेगा जब खौफनाक और दिल दहलाने वाले मुंबई हमले के असली साजिशकर्ताओं को सज़ा मिलेगी जो आज ना सिर्फ पुलिस की गिरफ्त से दूर हैं बल्कि पाकिस्तान में महफूज़ भी छुपे है.....

3 comments:

  1. कल्पना जी हिंदी ब्लॉग जगत की इस सरस दुनिया में आपका स्वागत है...

    आपकी रचनायें और इनका अंदाज़ कह रहा है कि आप भी वेब मीडिया....को एक अलग पहचान दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा कर रही हैं....

    मेहनत, लगन और निरंतरता से इसमें और निखार आएगा....इस की समग्री में विवधिता बढ़ सके तो सोने पे सुहागा होने वाली बात होगी... तस्वीरों का चयन भी बहुत खूबसूरत है....

    कुल मिला कर बधाई स्वीकार करें...

    ReplyDelete
  2. हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
    कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी बहुमूल्य टिप्पणियां देनें का कष्ट करें

    ReplyDelete
  3. " बाज़ार के बिस्तर पर स्खलित ज्ञान कभी क्रांति का जनक नहीं हो सकता "

    हिंदी चिट्ठाकारी की सरस और रहस्यमई दुनिया में राज-समाज और जन की आवाज "जनोक्ति.कॉम "आपके इस सुन्दर चिट्ठे का स्वागत करता है . चिट्ठे की सार्थकता को बनाये रखें . अपने राजनैतिक , सामाजिक , आर्थिक , सांस्कृतिक और मीडिया से जुडे आलेख , कविता , कहानियां , व्यंग आदि जनोक्ति पर पोस्ट करने के लिए नीचे दिए गये लिंक पर जाकर रजिस्टर करें . http://www.janokti.com/wp-login.php?action=register,
    जनोक्ति.कॉम www.janokti.com एक ऐसा हिंदी वेब पोर्टल है जो राज और समाज से जुडे विषयों पर जनपक्ष को पाठकों के सामने लाता है . हमारा या प्रयास रोजाना 400 नये लोगों तक पहुँच रहा है . रोजाना नये-पुराने पाठकों की संख्या डेढ़ से दो हजार के बीच रहती है . 10 हजार के आस-पास पन्ने पढ़े जाते हैं . आप भी अपने कलम को अपना हथियार बनाइए और शामिल हो जाइए जनोक्ति परिवार में !

    ReplyDelete